पंजाब में बायो मैडीकल वेस्ट के प्रबंधन के लिए बार कोड प्रणाली का प्रयोग किया जा रहा – बलबीर सिंह सिद्धू

Sorry, this news is not available in your requested language. Please see here.

चंडीगढ़, 27 जुलाई:
बायो मैडीकल वेस्ट (बीएमडब्ल्यू) के वैज्ञानिक ढंग से प्रबंधन को यकीनी बनाने के लिए पंजाब सरकार निजी और सरकारी अस्पतालों में बायो मैडीकल वेस्ट के प्रबंधन के लिए बार कोड प्रणाली का प्रयोग कर रहा है।
इस सम्बन्धी जानकारी देते हुये स्वास्थ्य मंत्री स. बलबीर सिंह सिद्धू ने कहा कि बायो मैडीकल वेस्ट को अति ख़तरनाक और संक्रमित मानते हुए सभी अस्पतालों में बार कोड प्रणाली को पूरी तरह लागू किया जा रहा है। वेस्ट को कॉमन बायो-मैडीकल वेस्ट ट्रीटमेंट एंड डिस्पोज़ल फैसीलिटी (सीबीडब्ल्यूटीएफ) तक ले जाने वाले वाहनों में ट्रेकिंग जीपीएस प्रणालियां भी लगाई गईं हैं। उन्होंने कहा कि यह प्रणाली पंजाब के वातावरण को बचाने और कोविड -19 और हैपेटाईटस जैसी छूत की बीमारियों को फैलने से रोकने के लिए मील पत्थर साबित हो रही है।
उन्होंने कहा कि राज्य भर में बायो मैडीकल वेस्ट के वैज्ञानिक ढंग से प्रबंधन को यकीनी बनाने के लिए सभी जिलों में राज्य सलाहकार कमेटी और जि़ला स्तरीय निगरान कमेटियों का गठन किया गया है। इस सम्बन्धी नियमित मीटिंगें की जा रही हैं। उन्होंने कहा कि सभी सीबीडब्ल्यूटीएफ ऑपरेटरों को बायो मैडीकल वेस्ट मैनेजमेंट रूल्ज (बीएमडब्ल्यूएम)-2016 (संशोधनों 2018 और 2019) की धाराओं के अनुसार बार-कोड सॉफ्टवेयर का प्रयोग करते हुये सभी स्वास्थ्य सहूलतों में से बायो-मैडीकल वेस्ट नियमित और समय पर इक_ा करने को यकीनी बनाने के निर्देश दिए गए हैं।
स. सिद्धू ने आगे बताया कि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की तरफ से रोज़मर्रा के बायो मैडीकल वेस्ट सम्बन्धी सभी विवरणों /रिपोर्टों को सॉफ्टवेयर पर अपलोड किया जाता है, जहाँ हरअस्पताल में से वेस्ट इक_ा करने का सारा रिकार्ड दर्ज किया जाता है। अस्पतालों में ज़मीन के नीचे कोई अवशेष नहीं दबाया जा रहा।
मंत्री ने आगे कहा कि लिक्विड वेस्ट प्री-ट्रीटमेंट प्लांट /ईटीपी /एसटीपी की योजना बनाई गई है जो पीएचएससी के द्वारा सभी जि़ला अस्पतालों और सब-डिविजऩ अस्पतालों में स्थापित किये जा रहे हैं, जबकि कम्युनिटी हैल्थ सेंटरों के लिए यह प्रगति अधीन हैं। छोटी स्वास्थ्य सहूलतों जैसे सब-सैंटर बायो मैडीकल वेस्ट के निपटारे के लिए पास के अस्पतालों के साथ जुड़े हुए हैं।
स. सिद्धू ने कहा कि पंजाब देश का पहला राज्य है जिसको मरकरी मुक्त राज्य घोषित किया गया है, इस तरह अस्पतालों में मरकरी उपकरणों की खरीद और प्रयोग नहीं किया जाता।
एच.सी.ऐफज़. के बीच वाले वेस्ट हाइपो -फिकसर सल्यूशन, डिवैलपर और एक्स-रे फिल्मों का मुकम्मल निपटारा नियमों के अनुसार किया जाता है। उन्होंने आगे कहा कि छोटे अस्पतालों समेत सभी अस्पताल भी बायो मैडीकल वेस्ट के निपटारे के लिए सीबीडब्ल्यूटीएफ से जुड़े हुए हैं।
Spread the love